Sunday, March 3, 2024

आज के व्रत और पर्व: आज है शनि जयंती, शनि अमावस्या, वट सावित्री व्रत और कार्तिगाई दीपम का पर्व

पंचांग के अनुसार 22 मई को अमावस्या की तिथि है. इस दिन एक नहीं कई पर्व और व्रत भी पड़ रहे हैं. धर्म कर्म के लिए आज का दिन श्रेष्ठ है. आज की पूजा क्या है लाभ आइए जानते हैं.

हिंदू धर्म के मुताबिक आज बहुत ही श्रेष्ठ है. भारतीय पंचांग के अनुसार आज कई ऐसे योग और विशेष संयोग बन रहे हैं जो धर्म-कर्म के लिए बहुत ही उपयोगी हैं. इस दिन की पूजा कई तरह के दुखों को दूर करने में सक्षम है, वहीं सभी प्रकार की मनोकामनाओं को पूर्ण के लिए भी अति उत्तम है.

soni pariwar india

शनि अमावस्या
पंचांग के अनुसार आज शनि अमावस्या की तिथि है. ज्येष्ठ मास में कृष्ण पक्ष की अमावस्या को विशेष माना गया है. अमावस्या की तिथि पितरों की पूजा के लिए अच्छी मानी गई है. इस दिन पूजा करने पितृ प्रसन्न होते हैं और जीवन में आने वाली बाधाओं को दूर करते हैं. इस दिन दान का भी महत्व है. अमावस्या की पूजा मोक्षदायी मानी गई है.

ये भी पढ़ें:-सी ए में सफलता हासिल कर निकिता सहदेव ने बीकानेर मैढ़ क्षत्रिय स्वर्णकार समाज का गौरव बढ़ाया

ज्येष्ठ अमावस्या का शुभ मुहूर्त
अमावस्या तिथि 21 मई की रात में 9 बजकर 35 मिनट से प्रारंभ होकर 22 मई को 11 बजकर 08 मिनट पर समाप्त होगी.

शनि जयंती
शनि जयंती का दिन शनि देव को समर्पित है. इस दिन को शनि देव के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है. सूर्य पुत्र शनि न्याय के देवता है. ये व्यक्ति को उसके कर्मों के आधार पर अच्छे और बुरे फल प्रदान करते हैं. शनि इस समय वक्री है और मिथुन, तुला, धनु, मकर और कुंभ राशि पर साढ़ेसाती और ढैय्या चल रही है. शनि की अशुभता को दूर करने के लिए आज की पूजा विशेष फलदायी मानी गई है.

soni pariwar india

शनि जयंती का शुभ मुहूर्त
21 मई को अमावस्या तिथि आरंभ:  21:35 बजे
22 मई को अमावस्या तिथि समाप्त: 23:07 बजे

soni pariwar india

वट सावित्र व्रत
इस दिन सुहागिनी स्त्रियां बरगद के वृक्ष की पूजा करती हैं. वट पूजा मनोकामनाओं को पूर्ण करती है और पति को लंबी आयु प्रदान करती है. इस दिन महिलाएं पति की लंबी आयु के लिए वट सावित्री का व्रत रखती हैं. मान्यता है कि बरगद के पेड़ पर ब्रह्मा, विष्णु और महेश का वास होता है.

 

लॉकडाउन में वट पूजा की विधि
कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए पूरे देश में लॉकडाउन घोषित है ऐसे में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना बहुत ही जरुरी है. इसलिए घर पर ही वट पूजा करें. इसके लिए बरगद की टहनी पूजा स्थान पर रखकर उसकी पूजा करें.

ये भी पढ़ें:जयपुर के पुनीत सोनी कर रहे है महाराजा अजमीढ़ जी की फ़िल्म बनाने पर काम

मासिक कार्तिगाई दीपम
भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए यह पर्व तमिल लोगों को द्वारा पूरी श्रद्धा और भक्तिभाव से मनाया जाता है. इस दिन शाम के समय घरों और गलियों में दीपक जलाए जाते हैं. मान्यता है कि कार्तिगाई दीपम कृत्तिका नक्षत्र से प्रभावित है. जिस दिन कृत्तिका नक्षत्र होता है उस दिन कार्तिगाई दीपम का पर्व मनाया जाता है. इस दिन भगवान शिव की पूजा की जाती है.

source:-abplive

soni pariwar india

Soni Pariwar India पर सबसे पहले स्वर्णकार समाज की खबर पढ़ने के लिए हमें यूट्यूबफेसबुक और ट्विटर व् इंस्टाग्राम पर फॉलो करें. देखिए अन्य लेटेस्ट खबरें भी .

Aryan Soni
Author: Aryan Soni

Editor Contact - 9352534557

Aryan Soni
Aryan Sonihttps://sonipariwarindia.com
Editor Contact - 9352534557

आप की राय

What does "money" mean to you?
  • Add your answer

Advertisements

अन्य खबरे
Related news