Soni Pariwar india

म्यूचुअल फंड में पैसा लगाने वालों के लिए बड़ी खबर, बंद हो जाएंगी ये 6 स्कीम, अब क्या करें निवेशक

अगर आपने म्युचूअल फंड्स (Mutual Funds) की किसी भी स्कीम में पैसा लगाया है तो ये खबर आपके लिए बेहद महत्वपूर्ण है. क्योंकि Franklin Templeton Mutual Fund ने अपनी 6 स्कीम्स बंद करने का फैसला किया है.

ई दिल्ली. फ्रेंकलिन टेम्पलटन म्यूचुअल फंड (Franklin India Templeton Mutual Fund) ने गुरुवार को अपनी डेट स्कीम्स (Debt Schemes) में से छह को बंद करने का फैसला किया है. इन सभी का ऐसट बेस 25,856 करोड़ रुपये है. कंपनी ने इन्हें बंद करने के पीछे कोरोना वायरस की वजह से हुए लॉकडाउन को बताया है. कंपनी का का कहना है कि इस माहौल में तेजी से निवशकों ने पैसा निकाला है. ऐसे में कंपनी के पास पैसों की तंगी हो गई है.

 फ्रैंकलिन टेम्पलटन म्यूचुअल फंड की कौन-कौन सी स्कीम्स होंगी बंद- इन म्यूचुअल फंड स्कीम्स के नाम है.

(1) फ्रेंकलिन इंडिया टेम्पलटन लो ड्यूरेशन फंड (Franklin India Low Duration Fund)
(2) फ्रेंकलिन इंडिया टेम्पलटन शॉर्ट बॉन्ड फंड (Franklin Ultra Short Bond Fund)

(3) फ्रेंकलिन इंडिया टेम्पलटन शॉर्ट टर्म इनकम प्लान (Franklin Short Term Income Plan)
(4) फ्रेंकलिन इंडिया टेम्पलटन क्रेडिट रिस्क फंड (Franklin Credit Risk Fund)
(5) फ्रेंकलिन इंडिया टेम्पलटन डायनामिक एक्यूरियल फंड (Franklin Dynamic Accrual Fund)

(6) फ्रेंकलिन इंडिया टेम्पलटन इनकम ऑपरच्यूनिटी फंड (Franklin Income Opportunities Fund)

फ्रेंकलिन इंडिया टेम्पलटन क्यों बंद कर रहा स्कीम्स (Franklin India Mutual Fund)
कंपनी की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि कोरोना वायरस संकट की वजह से कॉर्पोरेट बॉन्ड मार्केट में लिक्विडिटी यानी नकदी की कमी हो गई है. साथ ही, फिक्सड इनकम फंड्स स्कीम में भी तेजी से रिडम्पशन (म्युचूअल फंड्स से पैसा निकालना) बढ़ा है. इसीलिए एक लंबे विश्लेषण के बाद इन छह स्कीम्स को बंद करने का फैसला किया गया है.

अब क्या होगा- एक्सपर्ट्स कहते हैं कि देश की 22 लााख करोड़ रुपये की म्युचूअल फंड्स इंडस्ट्री पर रिडम्पशन का दबाव अप्रैल में तेजी से बढ़ा है. फ्रैंकलिन इंडिया टेम्पलटन का ये फैसला निवेशकों में घबराहट लाएगी. ऐसे में निवेशक अन्य फंड्स से भी तेजी से पैसा निकाल सकते है.

क्या करें निवेशक

अक्सर ऐसे मामलों में स्कीम्स के अचानक बंद होने से निवेशकों के लिए पैसा निकालने पर ब्रेक लग जाता है, जब तक कि म्युचूअल फंड कंपनी अपनी सभी होल्डिंग को समाप्त कर पैसा नहीं जुटा लेती है.

निवेशकों के लिए यह जरूरी है कि 23 अप्रैल, 2020 को इन फंडों की कट-ऑफ टाइम में कोई भी खरीदारी नहीं कर पाएगा. साथ ही, इसमें से पैसा नहीं निकाल पाएंगे. अगर आपने किसी भी फंड में पैसा लगाया हैं, तो इसका मतलब है कि अब आप रिडीम नहीं कर सकते हैं आपका पैसा और आपका निवेश इन फंडों में बंद है, जब तक कि फंड हाउस आगे भुगतान नहीं करता है.

अगर किसी भी तरह की कोई परेशानी हो तो इसकी शिकायत बाजार नियामक सेबी के पास कर सकते है. जब सेबी को आपकी शिकायत मिलती है तो वह स्वतः इस मामले को संबंधित म्यूचुअल फंड कंपनी के पास ले जाता है और इसका समाधान होने तक इसका फॉलो-अप करता रहता है.

इसके अलावा हाल में भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने अपने कार्यक्षेत्र में लोकपालों को अब नई जिम्मेदारी दी गई है, जिसमें इंश्योरेंस पॉलिसी या म्यूचुअल फंड स्कीम जैसे थर्ड पार्टी प्रॉडक्ट्स से संबंधित शिकायतें सुनने का अधिकार भी है.

 

source :- News18

Read Previous

गिरावट पर खुला बाजारः सेंसेक्स 500 अंक से ज्यादा टूटकर 31400 के नीचे, निफ्टी 9200 के नीचे फिसला

Read Next

स्वर्णकार समाज ने की विशेष पैकेज की मांग

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp chat